Sunday, April 24, 2011

मेरा 'सच'




तुम क्यों हो मुझसे दूर ??

'तुम्हारे बिना'.. मैं कुछ भी नहीं
आरोपों की 'गठरी' बन के रह गई हूँ
बस , अब 'देर न हो जाये कही'...
'जो' अभी हूँ , वो मैं नहीं हूँ
मिलने के बाद तुमसे ...
'जो'.. हो जाऊँगी , वही मेरा 'सच' होगा
अपने रंग में रंग लो मुझे

तुम भी... 'अपना सच' बना लो मुझे...~शोभा

3 comments:

  1. blog ki dunia men swaagat hai......achhi rachna.....:))

    ReplyDelete
  2. Vasundhara n Khushi ji , thanx a lot ..:)

    ReplyDelete