Thursday, February 24, 2011

दुआ

 ''सूखे हुए दरख्त से जो नाउममीद नहीं हो तुम, ये दुआ भी करो कि छांव दूर तक साथ चले''

3 comments:

  1. "दुआ भी करो कि छांव दूर तक साथ चले''"

    सच्ची और बहुत अच्छी कामना

    ReplyDelete
  2. इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  3. " भारतीय ब्लॉग लेखक मंच" की तरफ से आप को तथा आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामना. यहाँ भी आयें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.upkhabar.in

    ReplyDelete